Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Monday, July 28

शिया पंजतनी कमेटी द्वारा छोटी लाइन इमामबाडे़ में रोजा इफ्तार |

Read more...
widgets for blogger

लखनऊ में अलविदा जुमा के बाद रोजेदारों पे लाठी चार्ज निंदनीय | मौलाना सफ़दर हुसैन ज़ैदी

Read more...

Sunday, July 20

हज़रत अली (अ.s) की शहादत पे अज़दारों ने दिया पुरसा | अज़ादारी की तसवीरें

Read more...

Saturday, July 19

हजरत अली के शहादत शोकाकुल मुसलमानों का जुलुस |


हजरत अली के शहादत पर अजमेरी में स्थित मस्जिद शाह अता हुसैन में अंजुमने जुल्फेकारिया के बैनर तले मजलिस का आयोजन हुआ जहां मजलिस से पहले नमाजे जोहरैन जमात से अदा की गयी। तत्पश्चात् मोहम्मद अब्बास काजमी ने सोजखानी किया जिसके बाद मौलाना सैयद सफदर हुसैन जैदी ने कहा कि हजरत अली का पूरा जीवन गरीबों, यतीमों, विधवाओं के प्रति समर्पित था। हजरत अली ने इस्लाम की रक्षा हेतु अपना सर्वत्र न्यौछावर कर दिया। इसके बाद जुलूसे अलम व ताजिया निकाला गया जो नवाब युसूफ पर पहुंचा तो वहां तकरीर हुई जहां से जुलूस अंजुमन कौसरिया रिजवी खां के हमराह आगे बढ़े। कोतवाली चैराहे से अंजुमन जाफरी ने मातम करना शुरू किया जिसके बाद दूसरी तकरीर चहारसू पर हुई जहां से बलुआघाट के इमामबाड़ा मद्दू से अंजुमन हुसैनिया के हमराह जुलूस निकाले जो किले के पास पहुंचकर समाप्त हो गया। इसके पहले चहारसू चैराहे पर सैयद मोहम्मद हसन प्रधानाचार्य शिया इण्टर कालेज एवं अध्यक्ष अजादारी कौंसिल ने तकरीर करते हुये कहा कि हजरत अली ने ऐसी न्याय व्यवस्था अपने शासनकाल में बनायी जो आज भी मिसाल के तौर पर प्रस्तुत की जाती है।
Read more...

मौला अली (अ.स) की वसीयत -मौलाना स्य्यद सफ़दर हुसैन जैदी जौनपुर

मौला अली (अ.स) को १९ रमज़ान नमाज़ ऐ सुबह में इबने मुलजिम ने ज़रबत लगायी जिससे मौला अली (अ.स) की २१ रमज़ान को शहादत हो गयी |

मौला अली (अ.स) को ज़रबत लगने के बाद उन्हें यकीन हो गया था की वो अब नहीं बचेंगे उस वक़्त उन्होंने वसीयत की जिसे ध्यान से पढना चाहिए |

१) मैं तुम दोनों (दोनों बेटे हसन और हुसैन )को ,अपने तमाम अहल ओ अयाल को और जहाँ तक भी मेरा पैग़ाम पहुँचता है उस सभी को वसीयत करता हूँ तक्वा ऐ इलाही अख्तियार करें | अपने कामो को मुनज्ज़म (set) रखो ,आपस में ताल्लुकात को हमेशा सुधारे रहना क्यूँ की मैंने तुम्हारे नाना हज़रत मुहम्मद (स.अ.व) से सुना है की आपस के तालुकात सुधारे रखना आम नमाज़ और रोज़े से बेहतर है |

२) यतीमो के बारे में अल्लाह से डरते रहना उनको कभी भूखे रहने की नौबत ना आये और वो तुमारी निगाह के सामने बर्बाद ना हो जायें |

३) पड़ोसियों के बारे में अल्लाह से डरते रहना उनके बारे में पैगम्बर की वसीयत है और आप बराबर उनके हुकूक के बारे में नसीहत करते रहते थे की मुझे ऐसा लगता था कि आप उनको अपनी विरासत में भी शामिल कर सकते हैं |

४) कुरान पे अमल करना कहीं ऐसा ना हो की दुसरे लोग कुरान पे अमल के मामले में तुमसे आगे निकल जायें |

५) नमाज़ के बारे में अल्लाह से दरो क्यूँ की नमाज़ दीं का सुतून है |

६) अल्लाह के घर (मस्जिद) के बारे में अल्लाह से डरो और जब तक जिंदा रहना उसे खाली ना होने देना |

७) अपने जान माल और ज़बान से जिहाद करने के बारे में अल्लाह से दरो |

८) आपस में एक दुसरे से अच्छे ताल्लुकात रखना ,एक दुसरे की मदद करते रहना ,और खबरदार एक दुसरे से मुह ना फिराना |

९) रिश्तेदारों से ताल्लुकात न तोडना | नेकी की हिदायत और बुराई से रोकना तर्क ना करना और अगर तर्क करोगे तो तुम पे फसाद फैलाने वालों की हुकूमत हो जाएगी और तुम फरयाद करते रहोगे कोई सुनने वाला ना होगा |

१०) ऐ अब्दुल मुत्तलिब के बेटों अमीरुल मोमिनीन क़त्ल हो गए के नारे पे तुम मुसलमानों का खून ना बहाना और खबरदार मेरे क़त्ल के बाद मेरे कातिल के अलावा किसी को क़त्ल नहीं किया जा सकता | देखो अगर मैं इस ज़रबत से दुनिया से चला गया तो एक ज़रबत का जवाब सिर्फ एक ज़रबत ही है |

११) देखो मेरे कातिल के जिस्म के टुकड़े टुकड़े ना करना इसलिए की मैंने हज़रात मुहम्मद (स अव ) से सुना है की काटने वाले कुत्ते के भी हाथ पैर ना काटो |

तर्जुमा मौलाना स्य्यद सफ़दर हुसैन जैदी जौनपुर




Read more...

Popular Azadari Video